Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कितने भी नागेश पाटिल आते हैं तो भी १०१ प्रतिशत कांग्रेस काही विधायक होंगा - पूर्व सांसद सुभाष वानखेड़े

* पैसे का लालच दिखाकर सतबारा और आधार कार्ड से गुमराह किया जा रहा हैं.. * सरकार बेहतर कर्जमाफी और बेरोजगारों को रोजगार दें...




हिमायतनगर (अनिल मादसवार) भले ही मोदी सरकार लोकसभा चुनावों में सत्ता में आई है, लेकिन आनेवाले विधानसभा चुनावों में पूरे राज्य में कांग्रेस की सत्ता होगी। तो हमारा हदगाँव - हिमायतनगर क्षेत्र में १५१ नागेश पाटिल चुनाव में उतरते हैं तो भी १०१ प्रतिशत कांग्रेस का ही विधायक चुनकर सत्ता में आयेगा ऐसी मन्तव्य हिंगोली लोकसभा के पूर्व सांसद सुभाष वानखेड़े ने किया| 




वह हिमायतनगर तहसील कार्यालय पर कांग्रेस, राकांपा द्वारा तारीख ०४  सीताम्बर को सरकार के विरोध में निकाल हुए विशाल मोर्चा के मंच से उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर हदगाँव-हिमायतनगर तालुका के पूर्व विधायक माधवराव पाटिल जवळगावकर, राम भरती पिंपरखेडे, वरिष्ठ नेता लक्ष्मण शंकरगे, हदगाँव के कांग्रेस तालुका अध्यक्ष आनंदराव भंडारे, हिमायतनगर तालुका के अध्यक्ष विकास पाटिल देवसरकर, विधानसभा अध्यक्ष संदीप शिंदे, पंजाबराव पटेल हडसनकर, राष्ट्रवादी काँग्रेस के तालुकाध्यक्ष सुनील पतंगे, माजी जिल्हा परिषद सदस्य सुभाष राठोड, नाजीमचे संचालक गणेश शिंदे, शिवाजी पाटील सिरपलीकर, प्रभाकर मुधोळकर, सिप्राचे संस्थेचे सचिव दिलीप राठोड, जनार्धन ताडेवाड, माजी सभापती जोगेंद्र नरवाडे, वामनराव वानखेडे डॉ. प्रकाश वानखेडे, युवाअध्यक्ष सरदार खान,  माजी नगराध्यक्ष अ.अखिल अ.हमीद गोविंद बंडेवार, परमेश्वर गोपतवाड, काँग्रेस के शहर अध्यक्ष संजय माने, उदय देशपांडे, शिवाजी माने वाघीकर, शेख मुखीद खडकीकर, के साथ हादगाँव - हिमायतनगर तालुका में कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। इस वक्त आगे बोलते हुए वानखेड़े ने कहा, कि राज्य में कांग्रेस पार्टी को  सत्ता में लाने के लिए एक - एक वोट किमती है| किसान, मजुरदार, व्यापारी, आप और हमारे बच्चे के उज्ज्वल भविष्य के लिए काँग्रेस कि सरकार सतत में होनी जरुरी है| क्यू की भाजप -शिवसेना कि सरकार केवल राजनीति कर काँग्रेस का वोट छिनने के लिये वंचित पार्टी को मैदा में लाई है। प्रकाश अंबेडकर जानते हैं कि, वह चुनाव में जीत नहीं सकते, और उनका कोई उम्मीदवर भी चुनकर नही आ सकता। इसका जिता जगता सबूत विगत महिनो हुई लोकसभा चुनाव के नतीजे बता सकते है| यह बात उजागर हुई है, जिस कारण दलित वोटर जनता भी कांग्रेस-एनसीपी के पीछे खड़े हो जाएंगे। मौजूदा सरकार की फर्जी कर्जमाफी, फसल बीमा, बढ़ती महंगाई और सरकार द्वारा बेरोजगारी ने भारी आर्थिक मंदी पैदा कर दी है। वे सत्ता से केवल पैसे की राजनीति कर रहे हैं। जो भाजपाई कांग्रेस को भ्रष्ट कहते हैं.. ? फिर आपकी भाजपा में कांग्रेस के नेताओं को क्यों भरती कर रहे हैं, ऐसा सवाल भी उन्होने उपस्थित किया।



हिंदू हृदय सम्राट स्वर्गीय बाला साहेब ठाकरे श्रीमती इंदिरा गांधी की प्रशंसा करते थे, पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के कार्यकाल में पाकिस्तान के घर में घुसकर युद्ध किया था, क्या उस समय मुस्लिम भाई विरोध में थे? क्या उन्होंने उस समय इसबात का विरोध किया था... लेकिन अब सरकार हिंदू - मुस्लिम यह कहकर जातिविरोध विवादों में जहर घोल जनता को गुमराह कर रही है।


विगत दिनो में विपक्ष में रहते हुए, इस देवेंद्र फड़नवीस ने निकाल जुलूस में टाल बजाते हुए कहा था कि, वह सोयाबीन ५ हजार रुपये और कपास को ८ हजार रुपये दाम दिलायेंगे, सत्ता में आने पर उन्होंने किसानों का माल चुनाव पूर्व किये वादो के हिसाब से खरीद है क्या...? फिर भी आप किसान आपको कंगाल करणे वाले सरकार के पीछे रहना पसंत करेंगे..? ऐसा सवाल भी वानखेडे ने उपस्थित किया। इसी कारण अब देश की आर्थिक स्थिति भी कम हो गई है। इसलिए, देश आगे जाने कि बजाय पीछे जाता हुआ दिखाई देता है, जिसके परिणाम स्वरूप देश का भविष्य खतरे में आया है।


आज लोकसभा में सुभाष वानखेड़े पराजित नहीं हुवा, यहां तक ​​कि आप मतदाता भी इसके लिये कारण नही, बल्की मेरे पराजित के लिये ईवीएम मशीन जिम्मेदार है। जिस किसी ने इस बारे में आवाज उठाई .. सीबीआई के अधिकारी उसके घर जाते हैं, उसे जेल में डालते हैं, ईडी मामले की जांच लागावी जा रहि है। उस डर से कई काँग्रेस नेता भाजपा - शिवसेना में जा रहे हैं। क्या वे पार्टी बदलकर ईमानदार साबित हो सकेंगे...? ऐसा खाते हुए उन्होने विद्यमान विधायक को घेरा.. उन्होने कहा कि अब तो सत्ता के विधायकों के आशीर्वाद से हदगाव -हिमायतनगर क्षेत्र में मटका, जुआ सहित अन्य अवैध कारोबार चल रहे हैं। पिछले ५ वर्षों में, इस विधायक ने निजामाबाद में जाकर केवल पत्ते खेलने के अलावा दुसरा काम किया हि नही। विकास के नाम पर सिर्फ एक राजा, एक रानी और एक जुवारी के अलावा और कुछ नहीं किया है। अगर किसी भी कार्यकर्ता का फोन आता है तो मैं मुंबई से हूं .. भाभीजी बीमार है.. ऐसा कारण कहते हुए ५ साल बर्बाद किये| उसके के बाद अब चुनाव नजदिक आने से, विधानसभा क्षेत्र के गांव - गांव जाकर नारियल फोडकर जनता को गुमराह कर रहें है। अब, जलद हि आचार संहिता जारी होणेवाली है। और जनता को २ हजार का लालच देकर आधार कार्ड लेणे को कहकर झांसा दे रहें हैं। यदि यह सरकार का निर्णय है, तो आपको आधार कार्ड लेकरं इसे प्रस्तुत करना ठीक है। अगर यह बात झूठी निकली तो तहसीलदार, तलाठी और सबांधितों के विरोध में मैं खडा रहुंगा| इसलिये उन्होने जनता से भी अपील की कि आप झूठे वादे को न भूलें, क्यू कि अब गाँव गाँव की सूची बनाएंगे, और घरकुल और अन्य योजना के नाम पर लोगों को गुमराह करने की कोशिश करेंगे| इस बात से जनता सावधान हो और.. अपने हित के लिये काँग्रेस सरकार को फिर से सत्ता में लाने के लिए किमती वोट का इस्तेमाल करे ऐसा अनुराध भी उन्होने किया|


विधायक के नाकामीयाबी के कारण किसान लाभ से वंचित - माधवराव जवलगावकर 


सरकार किसान, खेत मजदूर, निराधार और अन्य लोगों के प्रति लापरवाह होते दिखाई दे रहें हैं। इस साल, किसानों को हदगाव -हिमायतनगर तालुका में कम प्रमाण में हुई बारिश के कारण दुबार बुवाई करनी पड़ी। फसल बीमा और कर्ज माफी नहीं होने से किसानों को राहत मिलने कि बजाय उलटा कर्ज का बोजा बढता जा रहा है। भाजप -सेना सरकार सिर्फ घोषणा कर रही है, आगर कर्जमाफी देणी है तो अशोक चव्हाण साहबने जैसे किसानों का कर्जमाफ किया ऊस प्रकार दो.. इस  सरकार द्वारा घोषित हुई  कर्जमाफी किसानों तक नही पाहूंचने से, किसान परेशान है, बैंक कर्ज माफी के बारे में कुछ नहीं कहता है। ४ साल से किसानों बैंक के चक्कर मार परेशान हो रहा है। कृषी बिमा नही मिला.. वर्तमान विधायक सरकार के सामने किसान कि समस्या उपस्थित करणे में असमर्थ साबित हो रहें है, कारनवश किसान के 'संकट' और भी बढ रहें ऐसा आरोप विधायक आष्टीकर पर निशाणा साधकार किया| इसी बात को ध्यान में लेकरं हमने किसान कर्जमाफी, निराधार कि समस्यांये, रोजगार के लिये भटकते युवा, मजदुरो के लिये काम, किसान खेती के लिये बिजली अपूर्ती, राष्ट्रीय महामार्ग पलसपूर -ढाणकी मार्गे से करे, पैनगंगा नदी तटवर्ती किसानों को पूर्ववत बिजली कि अपूर्ती, आदिवासी बंजारा भूमिहीन को गायरान पट्टे दे.. इसके साथ विभिन्न मागो का ज्ञापन उन्होंने तहसील कार्यालय में हजारों किसानों और सांसद सुभाष वानखेडे कि उपस्थिती में सौपा है| इस वक्त हजारो कि तादाद में किसान, नागरिक, कार्यकर्ता उपास्थित हुए थे|   

टिप्पणी पोस्ट करा

0 टिप्पण्या